Food Health Home Remedies

खून की कमी को पूरा करने के लिए सुपरफूड्स

superfoods for lack of blood
kiran
Written by kiran

स्वस्थ शरीर के लिए इम्यूनिटी ही नहीं अपितु वक़्त की मात्रा भी उचित होनी चाहिए। हमारे शरीर में रक्त की उचित मात्रा की कमी से कमजोरी, चक्कर आना, अनिद्रा, थकावट जैसी समस्याओं के साथ कई गंभीर बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है। इसके अलावा शरीर का रंग पीला और बेजान हो जाता है। खून की कमी को दूर करने के लिए हम उन सुपर फूड्स की सूची बनाकर आप लोगों के लिए लाए हैं जो आपके शरीर में खून की कमी को दूर करने में कारगर साबित होगी।

मकई के दाने

हैमिग्लोबिन की कमी को पूरा करने के लिए, आप इसे भून सकते हैं या उबाल कर खा सकते हैं। इसके नियमित सेवन से कुछ ही दिनों में खून की कमी पूरी हो सकती है।

तिल के बीज

लगभग 2-3 घंटे के लिए पानी में तिल के 2 चम्मच भिगोएँ और उन्हें बाहर निकालें और एक पेस्ट बनाएं। इसमें शहद मिलाएं और दिन में दो बार इसका सेवन करें। 1 सप्ताह तक लगातार इसका सेवन करने से तेजी से रक्त की मात्रा पूरी होगी।

लाल मांस

अगर आप मांसाहारी हैं, तो अपने आहार में बीफ को शामिल करें। बीफ आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है। अपने शरीर को स्वस्थ बनाने और लोहे की कमी को दूर करने के लिए बीफ और अन्य रेड मीट का सेवन करना चाहिए। 

चुक़ंदर

चुकंदर आयरन का सबसे अच्छा स्रोत है, जो शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की मरम्मत करने में मदद करता है। चुकंदर का सेवन करने से हीमोग्लोबिन बढ़ता है। इसकी पत्तियों में चुकंदर की तुलना में तीन गुना अधिक लोहा होता है। इसलिए चुकंदर के साथ चुकंदर के पत्तों का उपयोग करें या सब्जी में चुकंदर के पत्ते डालें।

जई

ओट्स आयरन का एक बेहतरीन स्रोत हैं। एक कप जई में 9 मिलीग्राम लोहा होता है, जो पूर्व रजोनिवृत्ति से गुजरने वाली महिलाओं के लिए आवश्यक लोहे का आधा होता है। ओट्स में दूध, केला, किशमिश और शहद खाने से आपका शरीर स्वस्थ और तंदरुस्त रहेगा और शरीर को सभी पोषक तत्व भी मिलेंगे।

आलू

जब आयरन, हरी पत्तेदार सब्जियों और मांस से भरपूर खाद्य पदार्थों की बात आती है, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि आलू भी आयरन का अच्छा स्रोत है। 100 ग्राम आलू में 7 मिलीग्राम लोहा पाया जाता है। इसलिए, अन्य सब्जियों के साथ आलू को वरीयता दें।

सूखी किशमिश

किशमिश रक्त बनने के लिए आवश्यक विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की कमी को पूरा करता है। आयरन से भरपूर सूखी किशमिश के सेवन से आप अपने हीमोग्लोबिन को बढ़ा सकते हैं।

अंजीर

अंजीर में विटामिन ए, बी 1, बी 2, कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, मैंगनीज, सोडियम, पोटेशियम और क्लोरीन होते हैं। रात को दो अंजीर भिगोकर सुबह पानी पीने और अंजीर खाने से हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ सकता है।

मूंगफली का मक्खन

पीनट बटर में लाल मांस जितना ही आयरन होता है। रोजाना 1 चम्मच पीनट बटर का सेवन करने से एनीमिया से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। आप चाहें तो सेब के साथ पीनट बटर भी खा सकते हैं।

अंडा

रोजाना एक अंडा खाने से एक मिलीग्राम आयरन मिलता है, जो एनीमिया से पीड़ित लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है। सप्ताह में कम से कम तीन दिन तीन अंडे खाने चाहिए। चूंकि अंडे की जर्दी में बहुत अधिक वसा और कोलेस्ट्रॉल होता है, इसलिए दो अंडे की जर्दी और एक अंडे की जर्दी के साथ खाएं।

अनार

अनार में मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन सी के अलावा आयरन भी अच्छा होता है। एक गिलास गुनगुने दूध में दो चम्मच अनार का पाउडर मिलाकर पीने से हीमोग्लोबिन को बढ़ाया जा सकता है। 

सेब

एनीमिया जैसी बीमारियों में सेब बहुत फायदेमंद है। इसमें आयरन के साथ कई अन्य पोषक तत्व होते हैं, जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने के लिए आवश्यक होते हैं, इसलिए रोजाना एक सेब खाना सुनिश्चित करें।

संतरा

जैसा कि हमने पहले कहा था कि शरीर में आयरन को अवशोषित करने के लिए विटामिन सी की आवश्यकता होती है और संतरे में भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है। इसलिए वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए रोजाना संतरे का सेवन करें।

सूखा आलूबुखारा

यह फल आयरन और विटामिन सी का एक उत्कृष्ट स्रोत है और ये दोनों तत्व शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में सहायक हैं। इसके अलावा सूखे आलूबुखारे में बहुत सारा मैग्नीशियम भी होता है, जो लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। इतना ही नहीं, मैग्नीशियम शरीर में ऑक्सीजन के परिवहन में भी मदद करता है।

पालक

पालक शरीर में एनीमिया को पूरा करने का सबसे अच्छा तरीका है। विटामिन बी 6, ए, सी आयरन, कैल्शियम और फाइबर का पालक सेवन शरीर में रक्त को उपवास करने में मदद करता है। आप इसे सब्जी या जूस के रूप में पी सकते हैं।

गिलोय 

गिलोय का रस प्लेटलेट्स बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है। यह आपकी प्रतिरक्षा को भी मजबूत करता है। दो चुटकी गिलोय में एक चम्मच शहद मिलाएं और इसे दिन में दो बार लें। इसके अलावा गिलोय के तने को रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह इसका पानी छान लें। इससे रक्त में प्लेटलेट्स की मात्रा बढ़ेगी।

हमारे शरीर में दो प्रकार की रक्त कोशिकाएं पाई जाती है जिसमें से एक लाल रक्त कोशिका अंक अर्थात रेड ब्लड सेल होती है जिसकी कमी से हमारे शरीर में अमीन यह नामक रोग हो जाता है। दूसरी सफ़ेद रक्त कोशिका अर्थात व्हाइट ब्लड सेल्स जोकि हमारे जख्मों को भरने में कारगर साबित होती है और महत्वपूर्ण भी है। हम आशा करते हैं उपरोक्त दी हुई जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण साबित हुई होगी। ऐसे ही अन्य ब्यूटी तथा हेल्थ टिप्स की जानकारी के लिए पढ़ते रहिए और फोलो करते रहिए लेडीज़ अड्डा।

About the author

kiran

kiran

Leave a Comment

Recommended
COVID-19 के बहुत हल्के लक्षणों वाले रोगी इस सदी की…
%d bloggers like this: